Author: Vijayalaxmi

Vijayalaxmi

dost 0

दोस्त

जब भी जीवन हो संकट में, जीने से हम भयभीत
समझाते दोस्त परिस्थितियां कैसे करना अंकित||